Recent Posts

The Rural Student

The Rural Student In Rural School.

Sports or education

Education Learning Outcomes in Sports Games via TLM.

Rural sports

Many children enjoy playing in rural sports.

Rural Student

Discipline of rural children.

The Rural Teachers

Teachers, guardians and children

Wednesday, October 30, 2019

01 नवंबर 2019 मध्य प्रदेश का 64 वां स्थापना दिवस

01 नवंबर 2019 मध्य प्रदेश का 64  वां स्थापना दिवस


        मध्य प्रदेश 01 नवंबर 2019 को अपना 64वां स्थापना दिवस मनाने जा रहा है। इस उपलक्ष्य में पूरे प्रदेश भर में विभिन्न तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है।
       मध्य प्रदेश के स्थापना दिवस (एक नवंबर) की पूर्व संध्या के दौरान मध्य प्रदेश के समस्त शासकीय एवं अशासकीय सभी सस्थानोँ  में कार्यक्रम किया जबेगा 


मध्य प्रदेश के अस्तित्व का सच-
        भोपाल आज मध्य प्रदेश का 64  वां स्थापना दिवस है।   मध्य प्रदेश 1 नवंबर 1956 को अस्तित्व में आया मध्य प्रदेश कभी मध्य भारत में आता था।  लेकिन 15 अगस्त 1947 को आजादी मिलने के बाद देश की सभी रियासतों को स्वतंत्र भारत में मिलाकर एकीकृत किया गया।  जिसके बाद 1 नवंबर 1956 को मध्य भारत पूरे देश में मध्य प्रदेश के तौर पर जाना जाने लगा।  मध्य प्रदेश के गठन के बाद प्रदेश की राजधानी को लेकर देश के तमाम नेताओं ने तत्कालीन प्रधानमंत्री पं. जबाहर लाल नेहरू को इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर के नाम सुझाए, लेकिन इन सब के बीच नेहरू को भोपाल काफी पसंद था. जिसके चलते मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल चुना गया। 

       '26 जनवरी, 1950 को संविधान लागू हुआ' इसके बाद सन् 1951-1952 में देश में पहले आम चुनाव कराए गए। जिसके कारण संसद एवं विधान मण्डल कार्यशील हुए। प्रशासन की दृष्टि से इन्हें श्रेणियों में विभाजित किया गया। सन् 1956 में राज्यों के पुर्नगठन के फलस्वरूप 1 नवंबर, 1956 को नए राज्य के रूप में मध्य प्रदेश का निर्माण हुआ। इस प्रदेश का पुर्नगठन भाषीय आधार पर किया गया था। इसके घटक राज्य मध्य प्रदेश, मध्य भारत, विन्ध्य प्रदेश एवं भोपाल थे जिनकी अपनी विधानसभाएं थीं। इस राज्य का निर्माण तत्कालीन सीपी एंड बरार, मध्य भारत, विंध्यप्रदेश और भोपाल राज्य को मिलाकर हुआ। यह भारत के मध्य में होने के कारण इसे पहले मध्य भारत के नाम से भी जाना जाता था।
मध्य प्रदेश का  स्थापना दिवस




भोपाल को राजधानी के रूप में चुना गया-
       1 नवंबर, 1956 को प्रदेश के गठन के साथ ही इसकी राजधानी औऱ विधानसभा का चयन भी कर लिया गया। भोपाल को मध्य प्रदेश की राजधानी के रूप में चुन लिया गया। राजधानी बनने के बाद 1972 में भोपाल को जिला घोषित कर दिया गया। मध्य प्रदेश के गठन के समय कुल जिलों की संख्या 43 थी। आज मध्य प्रदेश में कुल 52 जिले हैं।

राजधानी को लेकर इन शहरो में टक्क्र -
          राजधानी को लेकर इन शहरो में टक्क्र थी , सबसे पहला नाम ग्वालियर फिर इंदौर का गूँज रहा था इसके साथ ही राज्य पुनर्गठन आयोग ने राजधानी के लिए जबलपुर का नाम भी सुझाया था लेकिन भोपाल में भवन ज्यादा थे, जो सरकारी कामकाज के लिए उपयुक्त थे। इसी वजह से भोपाल को मध्य प्रदेश की राजधानी के तौर पर चुना गया था। भोपाल के नवाब तो भारत से संबंध ही रखना नहीं चाहते थे, वह हैदराबाद के निजाम के साथ मिलकर भारत का विरोध करने लगे थे। देश के हृदय स्थल में राष्ट्र विरोधी गतिविधियों को रोकने के लिए भोपाल को ही मध्य प्रदेश की राजधानी बनाने का निर्णय लिया गया

           विकास एक निरंतर प्रक्रिया है और प्रदेश की स्थापना के समय से ही सभी ने अपनी-अपनी समझ और क्षमता के अनुरूप मध्य प्रदेश के विकास में योगदान किया है। मध्यप्रदेश भारत ही नहीं, बल्कि विश्व के सबसे विकसित,सशक्त,सक्षम,समृद्ध और अग्रणी राज्यों में शामिल हो इसके लिए निरंतर प्रयास किये जा रहे है ।   हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी मध्य प्रदेश 01 नवंबर को स्थापना दिवस मनाया जा रहा है।

मध्य प्रदेश के स्कूलों में कार्यक्रम -
           मध्य प्रदेश 01 नवंबर 2019 को अपना 64वां स्थापना दिवस मनाने जा रहा है। इस उपलक्ष्य में पूरे प्रदेश भर में के समस्त शासकीय एवं अशासकीय सभी शिक्षण सस्थानोँ  में कार्यक्रम किया जबेगा। स्कूलों  के बच्चो के द्वारा   विभिन्न तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जा जायगा।
मध्य प्रदेश का  स्थापना दिवस

        RuralEducationIndia.com मध्य प्रदेश  के 64 वे स्थापना दिवस पर समस्त प्रदेशवासियों को शुभकामनायें प्रेषित करता है।

अंग्रेजी में देखने के लिए किल्क करे।



01 November 2019 Madhya Pradesh's 64th Sthapna diwas


01 November 2019 Madhya Pradesh's 64th Sthapna diwas



             Madhya Pradesh is going to celebrate its 64th Foundation Day on 01 November 2019. Various cultural programs are being organized across the state on this occasion.

       During the eve of Madhya Pradesh Foundation Day (November 1), a program will be organized in all government and non-governmental institutions in Madhya Pradesh.


Madhya Pradesh Sthapna diwas

The truth of the existence of Madhya Pradesh-          
          Bhopal today is the 64th foundation day of Madhya Pradesh. Madhya Pradesh came into existence on 1 November 1956 Madhya Pradesh used to come in central India. But after the independence on 15 August 1947, all the princely states of the country were integrated into independent India. After which on 1 November 1956, Central India came to be known as Madhya Pradesh in the whole country. After the formation of Madhya Pradesh, all the leaders of the country suggested the names of the then Prime Minister Pt. Jabahar Lal Nehru to Indore, Jabalpur, and Gwalior, but among all these, Nehru was very fond of Bhopal. Due to this, Bhopal was chosen as the capital of Madhya Pradesh.

             The Constitution came into force on 26 January 1950, followed by the first general elections in the country in 1951–1952. Due to which Parliament and Legislature became functional. In terms of administration, they were divided into categories. The reorganization of states in 1956 resulted in the creation of Madhya Pradesh as a new state on 1 November 1956. This region was reorganized on a linguistic basis. Its constituent states were Madhya Pradesh, Madhya Bharat, Vindhya Pradesh and Bhopal which had their own assemblies. This state was formed by merging the erstwhile CP and Berar, Central India, Vindhya Pradesh, and Bhopal. Being in the middle of India, it was also formerly known as Central India.

Bhopal was chosen as the capital-
        With the formation of the state on 1 November 1956, its capital and assembly was also selected. Bhopal was chosen as the capital of Madhya Pradesh. After becoming the capital, in 1972, Bhopal was declared a district. At the time of the formation of Madhya Pradesh, the total number of districts was 43. Today Madhya Pradesh has a total of 52 districts.

The conflict in these cities regarding the capital -
         There was a conflict in these cities regarding the capital, the first name was echoing Gwalior then Indore, along with the State Reorganization Commission suggested the name of Jabalpur for the capital but there were more buildings in Bhopal, which were suitable for government work. For this reason, Bhopal was chosen as the capital of Madhya Pradesh. The Nawabs of Bhopal did not want to have relations with India at all. He along with the Nizam of Hyderabad started opposing India. To stop anti-national activities in the heart of the country, it was decided to make Bhopal the capital of Madhya Pradesh.


         Development is a continuous process and since the inception of the state, everyone has contributed to the development of Madhya Pradesh according to their understanding and capacity. Constant efforts are being made to make Madhya Pradesh not only India but also to join the most developed, powerful, capable, prosperous and leading states of the world. Like every year, Madhya Pradesh is celebrating Foundation Day on 01 November this year.

Madhya Pradesh Sthapna diwas

Programs in schools of Madhya Pradesh -
        Madhya Pradesh is going to celebrate its 64th Foundation Day on 01 November 2019. On this occasion, a program will be organized in all government and non-government teaching institutions across the state. Various cultural programs will be organized by the children of schools.

 RuralEducationIndia.com sends greetings to all the people of Madhya Pradesh on the 64th Foundation Day.
HIndi


Tuesday, October 29, 2019

Education System In Madhya Pradesh

Education System In Madhya Pradesh

           Education is a continuous process, but in present times, education only means ideas are generated for improving the quality of school education.
Education




compulsory education in the Act means -
All the children of 6 to 14 years of age should have their names registered in the school Madhya Pradesh-
All enrolled children attend school regularly -
Complete all classes from 1 to 8 -



         Teachers of government schools of Madhya Pradesh, who are facing a shortage of teachers, are now playing the leaders. Appointment of government teachers for non-academic work is prohibited under the Right to Education Act, despite the fact that many legislators and ministers have been given the services of teachers for clerical work, although the government order says that teaching and writing Apart from teachers, no other work can be taken. 

        Teaching in government schools is carried out along with teaching and other work, which affects the education in schools, but this does not matter to the detractors and leaders, paperwork is more important to them, just filling in the papers does not make any sense to the children. Happen.


          But today in private schools, the education body has lost its meaning in such a way that today its inner culture is not alive nor behavior, education in its entire form is buried amidst the chaos, immorality. Neither character is coming through education nor human origin, nor citizenship, culture, nor national responsibility and sense of duty nor consciousness towards rights. Today, the concern is being raised about the falling star of education in every category.

compulsory education -

  1. Rural Education India specialized training -
  2. Rural Education India Ban on skinning -
  3. Rural Education India Restriction on capital fees
  4. Rural Education India Will not be stopped in class -
  5. Rural Education India Continuous and Comprehensive Evaluation -
  6. Rural Education India School Management Committee -
  7. Rural Education India Recognition of private schools
  8. Rural Education India Norms for school operation
  9. Rural Education India Number of teachers -
compulsory education in the Act means -
All the children of 6 to 14 years of age should have their names registered in the school -
All enrolled children attend school regularly -
Complete all classes from 1 to 8 -


School facility -

The Madhya Pradesh State Right to Education Rules has been made under the Act. There is a provision to open schools from class 1 to 5 in a radius of one kilometer from each habitation, but there should be at least 40 children in that place.

    To open the school from class 6 to 8, this distance is 3 kilometers and the number of children has been kept 12.

The state government is running several schemes for these children -



  • 2 teachers on 60 children
  • 3 teachers on 61 to 90 children
  • 4 teachers from 91 to 120 children
  • 5 teachers on 121 to 200 children
  • A teacher on 40 children over 201
  • 1 headteacher for 150 children

Saturday, October 26, 2019

भारत में ग्रामीण शिक्षा की उपलब्धि और नवाचार

भारत में ग्रामीण शिक्षा की उपलब्धि और नवाचार

 ग्रामीण शिक्षा 
      अगर आपको लगता हैं की आपके बच्चे में कॉन्फिडेंट की कमी हैं  अपने बच्चे के सामने सकारात्मक बात ही करे एवं छोटी  बातो पर उसको डाटना नहीं चाहिए। अगर बह कुछ बताना चाहता हैं तो उसकी पूरी बात सुने और उसका जबाब भी देना चाहिए उसको ,उसके दोस्तों के साथ खेलने दे , उससे सबाल जबाब करे उसकी  निर्णय  लेने की  छमता में उसका सहयोग करे हैं। 
       ग्रामीण शिक्षा के अंतर्गत छोटा बच्चा गीली मिट्टी के समान होता हैं शिक्षक उसको जैसा चाहे वैसा बना दे  भारत में पहले साक्षरता दर के मुकाबले आज ग्रामीण क्षेत्रो में यूवा और कॉलिफाइड टीचर की व्यवस्था सरकार कर रही हैं जो की ग्रामीण क्षेत्रो में जा कर उन गरीव बच्चो को शिक्षा प्रदान करा रहे हैं। 
      किसी देश की शिक्षा निति मजबूत हैं तो उस देश का शिक्षा तंत्र मजबूत होता हैं यह सब सुबिधाय शिक्षक को मिले तो वह  शिक्षक  कर्तव्य से कभी पीछे नहीं हटेगा। 
       ग्रामीण शिक्षा को लेकर आज वस्तु स्थिति सपस्ट नही हैं वर्तमान में मिडिल स्कूल के 90 परसेंट बच्चे कक्षा 9 में पड़ने लायक नहीं हैं   जो दुर्दशा शिक्षा की हुई हैं उसके लिए सिर्फ शिक्षक ही जिम्मेदार नहीं हैं क्योकि जिन बच्चो को कक्षा 1 ,2 , 3 ,4 ,5 में फेल होना चाहिए था वो अगर आज 9 कक्षा में पहुंचे तो शिक्षा वभाग के फेल न करने के नियम के कारण। 
       लोग कहते हैं शिक्षक ने बच्चो की पढ़ाई लिखाई पर ध्यान नहीं दिया लेकिन सरकार उन पर ध्यान देने दे तब 80 बच्चो पर 1 या 2 टीचर और उन्हें भी कभी sc और कभी obc कभी समग्र छात्रवृति तो कभी आधार ,या कितनो के कहते खुले अभी तक कभी गाँव में कितनी लेट्रिन बनी एस.ऍम.सी. कभी  पी.टी.ए. 


जनगणना ,मतगणना ,गणवेश ,साईकिल ,आधार ,खाता ,समग्र ,रूबेला ,एल्बेंडाजोल ,मध्यान्ह भोजन ,गैस कनेक्शन ,
    जैसे इन सब से फ्री होकर शिक्षक बच्चो को पढ़ाने का मन बनाये तो 15 दिन के कोर्स को 3 महीने का बनाकर 11 पेज की पुस्तक को 400 पेज की बनाकर फिर उलझा दिया फिर भी हर वर्कबुक हर कॉपी पर लाल घेरा लगाओ शिक्षक ने इसके बाद  खुद को तैयार किया लेकिन फिर टीचर हेंड बुक शिक्षक मार्ग दर्शिका का बोझ शिक्षक के सर पर होता हैं। 
      लेकिन इस परिवर्तन के दौर में ग्रामीण शिक्षा को लेकर शिक्षक सजग और धैर्यवान हैं जो अपने कर्तव्यों को हमेशा पूरी ईमानदारी के साथ निभाता हैं। 
       आज के समय में सभी लोग सरकारी मास्टर को तो कुछ  समझते ही नहीं लेकिन हकीकत इसके बिपरीत हैं। और विभागों में आपकी सर्विस लग सकती हैं पर एक टीचर की सर्विस मिलना बहुत मुश्किल है कठिन परिश्रम करके टीचर बनता हैं और लोग उस पर कमेंट्स करते हैं टीचर्स परीक्षा में लाखो लोग एग्जाम देते हैं पर उनमे से कुछ चुनिंदा लोग ही इस काविल होते हैं  जो टीचर  बन सके और जो लोग  इन परीक्षाओ में असफल  हो जाते हैं  वह  प्राइवेट स्कूलों में पढ़ाते हैं और आप और हम अपने बच्चो को उन प्राईवेट स्कूलों में भेजते हैं और वह स्कूल हम से मोटी  कमाई करते हैं। 
      जो टीचर ग्रामीण क्षेत्रों में जाकर पूरी ईमानदारी से छात्रों को अध्यापन कार्य करा रहा हैं।  उसका अपमान भी नहीं करना चाहिए। शायद आप लोग भूल गए होंगे लेकिन मुझे यद हैं की में भी एक ग्रामीण सरकारी स्कूल से निकला हूँ।  मेने भी अपना  अध्यापन  गांव के स्कूल से ही किया हैं। हमारे समय में थोड़ी सुविधाय कम थी पर आज तो सरकार ग्रामीण शिक्षा के  क्षेत्रों  में बहुत सी सुविधाय उपलब्ध करवा रही हैं। 
rural education


ग्रामीण क्षेत्रों में बुनियादी शिक्षा-
        Basic Education In Rural Areas ग्रामीण क्षेत्रों में बुनियादी शिक्षा के अंतर्गत बच्चे की प्राथमिक शिक्षा की शुरुआत  ग्रामीण परिवेश के आधार पर होती हैं ग्रामीण शिक्षा के आधार पर कहा गया हैं। की बच्चे की प्रथम गुरु माँ होती हैं।  ग्रामीण शिक्षा में इसका और अपनी क्षेत्रीय भाषा का बहुत महत्व हैं। बच्चे को  ग्रामीण शिक्षा के माध्यम से क्षेत्रीय भाषा में अध्यापन कार्य कराया जाना बहुत महत्वपूर्ण हैं। जिससे उसका मानसिक विकास हो सके और वह अपने आसपास के परिवेश के बारे में जान सके। 

              ग्रामीण क्षेत्रो में भाषा को प्राथमिकता दे गई हैं भारत की  अधिकांश आवादी आज भी ग्रामीण क्षेत्रो में रह रही हैं जो की मजदूरी का कार्य करते हैं ग्रामीण क्षेत्रो में मजदूरी करना ही उनकी प्राथमिक आय का श्रोत हैं जिससे वह अपने परिवार का पालन पोषण करते हैं लेकिन अब इस परिवर्तन के दौर में ग्रामीण शिक्षा के लिए शिक्षक भी कमर कस चके हैं और वह भी अपनी पूरी मेहनत ग्रामीण क्षेत्रो में कर रहे हैं। 

       ग्रामीण क्षेत्रो में शिक्षा की गुणवत्ता एक सामान्य बिषय नहीं था इसके लिए इसके लिए शिक्षक को दोषी माना जाता था लेकिन अब परिस्थितियों को देखते हुए शिक्षक भी पूर्ण ईमानदारी से अपना काम कर रहे हैं और सरकार भी पूर्ण सहयोग प्रदान कर रही हैं बच्चो को फ्री में बुक ,ड्रेस ,साईकिल ,और भी अन्य शुविधाय दे रही हैं। 


       ग्रामीण क्षेत्रो में एक प्रायवेट स्कूलों का मुद्दा भी बहुत चल रहा हैं प्रायवेट स्कूल बच्चो को लालच देकर अपने पास खेचते हैं जिससे ग्रामीण क्षेत्रो के सरकारी स्कूलों में नामंकन की भी समस्या उतपन्न होती हैं। ये लोग ग्रामीण क्षेत्रो के गरीव लोगो को लालच देकर बच्चो का एडमिशन कर लेते हैं और फिर फीस के लिए उनको परेशान करते हैं फीस नहीं देने पर उनको टी सी नहीं देते हैं जिससे बच्चो की साल भर की पढ़ाई बर्बाद होती हैं और वह बच्चा फिर से सरकारी स्कूल में आ जाता हैं


      ग्रामीण शिक्षा में एक क्रन्तिकारी पहल हुई हैं 2002 से अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम बना जिससे बाल मजदूरी पर अंकुश लगा और ग्रामीण बच्चे स्कूल जाने को प्रेरित हुए इनके माता पिता ने भी इनका सहयोग किया और बच्चो को स्कूल भेजने के लिए सहमति बनी। 


        ग्रामीण शिक्षा में प्राइवेट स्कूलों का भी योगदान रहा हैं जिन क्षेत्रो में स्कूल नहीं थे वहा प्राइवेट स्कूल खुलने से पढ़ने बाले छात्रों को आसानी हुई इससे पहले गांव के बच्चे 3 -4 किलो मीटर पैदल जाकर अपनी शिक्षा पूरी करते थे इसलिए इस कदम को सराहा जाता हैं। एक कारण और हैं जिस तरह प्राइवेट स्कूलों में 25 प्रतिशत आर,टी ,ई ,के छात्रों की भर्ती की जा रही हैं जिससे ग्रामीण लोगो को फायदा हैं परन्तु इससे कुछ दिनों में सरकारी स्कूलों की व्यवस्था बंद होने की कगार पर हैं ग्रामीण सरकारी स्कूलों में नामांकन 5 -20 अधिकतम हर स्कूल का हाल हैं जिस पर शिक्षकों की व्यवस्था  और स्कूलों का मेंटेनेंस राशि का खर्चा सब सरकार को करना पड़ता हैं।  

rural education


       बर्तमान ग्रामीण शिक्षा में बहुत अंतर आ चुका हैं अब छात्रों को मुफ्त शिक्षा के साथ साथ किताबे ,यूनिफॉर्म ,स्कॉलरशिप ,साईकिल ,लेपटॉप ,आदि बिभिन्न प्रकार की सुविधाएं मिलती हैं।


       ग्रामीण शिक्षा  के क्षेत्र में आज भी ग्रामीण लोग सहयोग कम ही करते हैं बच्चो को स्कूल भेज कर पालक  मजदूरी करने चले जाते हैं  अगर शिक्षक को किसी कागज पर साइन करना हो तो पालक  का इंतजार में  ४-५ दिन लगजाए। 
    ग्रामीण क्षेत्र में शिक्षा का विस्तार तो हुआ हैं,  साथ ही पलकों में जागरूकता भी आई हैं। 
        शिक्षा एक निरंतर चलने वाली प्रक्रिया हैं लेकिन वर्तमान समय में शिक्षा का अर्थ केवल स्कूली शैक्षिक गुणवत्ता में सुधार को लेकर विचार उत्पन्न होते हैं। 
        किन्तु आज निजी स्कूलों में शिक्षा शव्द ने अपने अंदर का अर्थ इस कदर खो दिया हैं कि आज न उसके अंदर का संस्कार जिन्दा हैं और न व्यबहार, शिक्षा अपने समूचे स्वरूप में अराजकता , अनैतिकता  के बीच दब गई हैं।  शिक्षा के माध्यम से अब न चरित्र आ रहा हैं ना मानवीय मूल ,न नागरिकता ,संस्कार ,न राष्ट्रीय दायित्व एवं कर्तव्य बोध और न ही अधिकारों के प्रति चेतना। आज प्रत्येक वर्ग में शिक्षा के गिरते स्टार को लेकर चिंता जताई जा रही हैं। 
rural education


निशुल्क मध्यान भोजन-Mid Day Meal-
        ग्रामीण शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार की सबसे बड़ी पहल हैं की आज सब सरकारी  स्कूलों में निशुल्क मध्यान भोजन के साथ बहुत सी सुबिधाए उपलब्ध करा रही हैं जिससे ग्रामीण क्षेत्र के छात्रों को उनका लाभ मिल रहा हैं। छोटे छोटे गरीब बच्चे तो केवल भोजन और खेलने के लिए ही स्कूल आते हैं और उनको खेल खेल में शिक्षा  के माध्यम से उनकी दक्षताओं की पूर्ति भी हो जाती हैं ये सब ग्रामीण क्षेत्र योग्य टीचर के माध्यम से ही सम्भब हो सका हैं 
         मध्यान भोजन एक बहुत बढ़िया स्कीम हैं इस कार्यक्रम के अंतर्गत ग्रामीण बच्चे स्कूल आने के लिए उत्साहित होते हैं और ग्रामीण शिक्षा के साथ -साथ मध्यान भोजन की व्यवस्था भी बच्चो को मिलती हैं जिससे बच्चे स्कूल आते हैं इस कार्यक्रम में स्कूलों में बच्चो की उपस्तिथि में बृद्धि हुई हैं। 
      Mid-Day-Meal के अंतर्गत ग्रामीण बच्चे स्कूल आने के लिए उत्सुक होते हैं क्योकि मेनू के अनुसार मिड डे मील का कार्यक्रम चलाया जाता हैं जिससे बच्चो को हर दिन कुछ नया खाने को मिलता हैं और कभी -कभी ग्रामीण लोग भी इस योजना का लाभ लेते हैं। और चेक करते हैं की मिड डे मील बनाने बाला समूह भोजन गुणवत्ता दे रहा हैं या नहीं जिससे समूह को भी भय बना रहता हैं और वह गुणवत्ता पूर्ण भोजन की व्यवस्था करता हैं जिससे छात्रों को लाभ मिलता हैं। 
      ग्रामीण शिक्षा के माध्यम से बच्चो में स्कूल  आने की प्रति भावना का विकास करना ही मूल उद्धेश्य हैं और रूचि पूर्ण मध्यान्ह भोजन  हैं। एक बात सत्य हैं की ग्रामीण क्षेत्रो में रहने बाले लोग गरीव होते हैं और मजदूर वर्ग ज्यादा होता हैं जिससे वह अपने बच्चो पर ध्यान नहीं दे पाते और शिक्षा के प्रति जागरूक भी नहीं कर पाते जिससे कुछ बच्चो को बीच में ही अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ती हैं और अपने परिवार के पालन के लिए मजदूरी करनी पड़ती हैं गरीवी ही ग्रामीण क्षेत्र की मुख्य समस्या हैं। 
    ग्रामीण शिक्षा के अंतर्गत सर्व प्रथम 1925 में मद्रास नगर निगम ने गरीव बच्चो के लिए मध्यान्ह भोजन का कार्यक्रम चलाया था तथा 1980 तक यह भारत के 3 राज्य तमिलनाडु , गुजरात ,केरल इन केंद्र शासित प्रदेशो ने अपने बल पर ग्रामीण बच्चो के लिए 1990 से 1991 तक मध्यान भोजन का कार्यक्रम चलाया था  तथा इसको  बाद में 12 राज्यों तक बढ़ाया गया था। 
         ग्रामीण क्षेत्रो में मिड डे मील कार्यक्रम में इसके मापदंड निर्धरित किये गए हैं प्राथमिक स्तर पर कितना खर्च कोगा और मिडिल स्तर पर कितना इसमें इसमें प्राथमिक स्तर पर राशि दर रुपय 1.68 प्रति बच्चे की हिसाब से और मिडिल में रूपया 2.50 प्रति बच्चे की हिसाब रखा गया हैं जिससे मिड डे मील चलने वाले समूह को भी नुकसान न हो और बच्चो को गुणवत्ता पूर्ण भोजन की वयवस्था होती रहे। 




         वर्ष 2001 में MDM  पका हुआ  मध्‍याह्न भोजन योजना  बन  गई  जिसके तहत प्रत्‍येक सरकारी और गैर सरकारी  सहायता प्राप्‍त प्राथमिक स्कूलों  के प्रत्‍येक  बच्‍चे  को  8-12 ग्राम  प्रतिदिन  प्रोटीन  और  ऊर्जा  के न्‍यूनतम 300 कैलोरी अंश के साथ  मध्‍याह्न  भोजन  परोसा  जाना  था। स्‍कीम का वर्ष 2002 में न केवल सरकारी, गैर सरकारी सहायता प्राप्‍त और स्‍थानीय निकायों के स्‍कूलों  को  कवर  करने के लिए अपितु शिक्षा गारंटी, स्‍कीम  (EGS)  और  ब्रज कोर्स,  और , आँगन बाड़ी  केन्‍द्रों,  में पढ़ने वाले बच्‍चों तक भी विस्‍तार किया गया था।
      Mid Day Meal बच्चो का स्कूलो में नामांकन बढ़ाने के मुख्य उद्धेश्य से किया गया हैं और उनकी उपस्तिथि स्कूल में  बानी  रहे  एवं  बच्चो  को पोषण आहार भी मिलता रहे ग्रामीण शिक्षा के माध्यम से  राष्टीय  पोषण कार्यक्रम 15 अगस्त 1995 से शुरू किया गया हैं  केंद्र द्वारा आयोजित इस योजना को पहले देश के  2408  व्लाको  में प्रारंभ किया गया था 1997 -98 तक इसको देश के सभी व्लाको में शुरू किया गया 2002 में इसको बड़ा कर सरकारी स्कूलों के अलाबा आगनबाड़ी केन्द्रो और गैर सरकारी संस्थओं में पढने बाले कक्षा 1 से 5 तक के सभी छत्रो के लिए प्रारंभ किया गया।   
Mid-Day-Meal


 Rural Education India-
       बर्तमान समय में Rural Education से संबंधित कई महान लेखकों  के लेख सामने आते हैं लेकिन ये लोग ग्रामीण शिक्षा को अपने मन की कल्पनाओ के आधार पर लिख देते हैं इनको ग्रामीण क्षेत्र की वस्तु स्थिति की जानकारी नहीं होती जो लोग ग्रामीण क्षेत्रो से निकल कर आते हैं उनको ग्रामीण शिक्षा एवं ग्रामीण बच्चो की जानकारी बहुत अच्छे से होती हैं। वही लोग ग्रामीण क्षेत्र के बारे में बहुत अच्छा लिख सकते हैं और आपको सही और सटीक जानकारी उपलब्ध करा सकते हैं। 
      Rural Education India ग्रामीण शिक्षा के अंतर्गत बहुत सी मूलभूत दक्षतायेँ आती हैं जिनको पूर्ण करने पर ग्रामीण शिक्षा का सही अर्थ लगाया जा सकता हैं। 
     ग्रामीण शिक्षा के माध्यम से छात्रों की मिलभूत दक्षतायेँ पूर्ण करना उनको हर क्षेत्र में पारंगत करना,छात्रों को सम्पूर्ण शिक्षा चाहे वह धार्मिक हो या सांस्कृतिक या वैज्ञानिक तकनीकी क्षेत्र में  हो यही शिक्षा का उद्देश्य हैं। 
rural education


अनिबार्य शिक्षा -
  • अधिनियम में  अनिबार्य शिक्षा से मतलब हैं -
  • 6  से 14 बर्ष के सभी बच्चो का स्कूल में नाम दर्ज हो -
  • सभी नामांकित बच्चे नियमित रूप से स्कूल  जाय -
  • सभी कक्षा 1 से 8 तक की शिक्षा पूरी करे -
स्कूल  सुबिधा -
      अधिनियम के अंतर्गत मध्य  प्रदेश राज्य शिक्षा का अधिकार नियम बनाये हैं इसमें हर एक बसाहट से एक किलोमीटर की परिधि में कक्षा 1 से 5 तक स्कूल खोलने की व्यवस्था हैं लेकिन उस जगह पर कम से कम 40 बच्चे हो। 
    कक्षा 6 से 8 तक स्कूल खोलने के लिए यह दूरी 3 किलोमीटर हो तथा बच्चो की संख्या 12 रखी गई हैं। 
इन बच्चो के राज्य सरकार कई योजनाय चला रही हैं -


विशेष प्रशिक्षण -
  1. स्कीनिंग  पर रोक - 
  2. केपिटिशन फीस पर रोक -
  3. कक्षा में रोका नहीं जायगा -
  4. सतत एवं व्यापक मूल्यांकन -
  5. शाला प्रबंधन समिति -
  6. प्रायवेट स्कूलों को मान्यता -
  7. स्कूल संचालन के लिए मापदण्ड -
  8. शिक्षको की संख्या -


  • 60 बच्चो पर 2 शिक्षक 
  • 61 से 90 बच्चो पर 3  शिक्षक 
  • 91 से 120 बच्चो पर 4  शिक्षक
  • 121 से 200 बच्चो पर 5 शिक्षक 
  • 201 से अधिक होने पर 40 बच्चो पर एक शिक्षक 
  • 150 बच्चो पर 1 प्रधान अध्यापक  
स्कूली बच्चो के टीका करण खसरा -रूबेला  (M.R.)-
      ग्रामीण शिक्षा के क्षेत्र में बड़ी क्रांति हैं शासन गांव के हर स्कूल में प्रत्येक छात्र को गंभीर बीमारी से बचाने के लिए  हर सम्भब प्रयास कर रही हैं ग्रामीण क्षेत्र के हर स्कूल तक यह जानकारी हैं की खसरा -रूबेला,फोलिक ऐसिड,एल्बन्डा जॉल,क्या हैं और इनका क्या उपयोग हैं।
खसरा रोग क्या हैं  तथा यह कैसे फैलता हैं -
     खसरा एक जानलेवा रोग हैं जो वायरस से फैलता हैं खसरा रोग के कारण बच्चो में विकलांगता एवं असमय मौत का कारण हो सकती हैं।
खसरे के क्या लक्ष्ण हैं ?
खसरा यह बेहद संक्रमक रोग हैं यह इससे प्रभबित व्यक्ति के खांसने या छींकने से फैलता हैं लक्ष्ण - चेहरे पर गुलाबी दाने,खासी ,बुखार ,नक् बहना , आँखों का लाल हो जाना। 
   खसरा -रूबेला किन (M.R.) टीका किन -किन बीमारियों से सुरक्षा प्रदान करता हैं। 
      खसरा -रूबेला में (M.R.) का  टीका सुरक्षा प्रदान करता हैं इसके साथ ही यदि गर्भवती महिलाओ को रूबेला के प्रति प्रतिरक्षित किया जा चूका हैं।  तो नव जात शिशु भी कंजेनिटल रूबेला सिंड्रोम (C.R.S.) के प्रति सुरक्षित रहेंगे।  
 स्कूली बच्चो के टीका करण के दौरान माता -पिता की उपस्तिथि के लिए क्या योजनाए हैं ?
  ग्रामीण क्षेत्रों में स्कूली बच्चो का टीका कारण शिक्षकों की उपस्तिथि में किया जाता हैं फिर भी यदि माता-पिता चाहे तो टीका कारण के समय वे अपने बच्चे के साथ रह सकते हैं। 
टीका करण अभियान में दिए जाने बाला M.R. का टीका कितना सुरक्षित हैं ? और यह किन-किन देशो में दिया जाता हैं ?
   M.R./M.M.R. का टीका जो पिछले 40 वर्षो से दुनियाभर में दिया जाता हैं। यह पूर्णतः सुरक्षित हैं। हमारे देश में भी निजी चिकत्सक M.R./M.M.R. टीका पिछले कई वर्षो से बच्चो को दे रहे हैं वर्तमान में दुनियाभर दे 149 देशो में M.R./M.M.R. टीका दिया जा रहा हैं।


    खसरा -रूबेला  (M.R.) का  टीकाकरण स्वास्थ्य केन्द्रो के स्थान पर स्कूलों में क्यों किया जा रहा हैं। 
   खसरा -रूबेला  (M.R.) अभियान सभी जगहों स्कूलों , अस्पताल ,एवं स्वास्थ्य केन्द्रो -पर चलाया जा रहा हैं इसमें 9 माह से 15 बर्ष तक के आयु वर्ग के अधिकतर बच्चे स्कूल जाते हैं।  इसलिए टीका कारण अभियान स्कूलों में चलाया जाता हैं स्कूल न जाने बच्चो को समुदाय में आऊटरीच गतिविधि के माध्यम से टीका कृत किया जाता हैं। 
 इसी प्रकार, फोलिक ऐसिड,एल्बन्डा जॉल, की गोलियों का भी उपयोग किया जाता हैं इन गोलियों को पहले शिक्षक खाते  हैं और फिर बच्चो को खाने को दी जाती हैं .

ग्रामीण क्षेत्रो में समस्या -

             ग्रामीण शिक्षा के क्षेत्र में आज भी लोग इंडिया के ग्रामीण क्षेत्रो में अपनी सोच को विकसित नहीं कर पाए हैं जिस कारण से बच्चो को शिक्षा के क्षेत्र में अपनी दक्षताओं की पूर्ति करने में परेशानी आती हैं क्यों की आज भी ग्रामीण क्षेत्र में पालक इतने सक्षम नहीं हैं की अपनी बच्चे की शिक्षा के लिए वह शिक्षक से मिल सके और उनसे अपने बच्चे क शिक्षा के लिए चर्चा कर सके।  क्यों की ग्रामीण क्षेत्रों में अधिकतर मजदूर  वर्ग रहते हैं और उनको अपनी रोजी रोटी कमाने के लिए  दुसरो पर निर्भर रहना पड़ता हैं जिससे वह  बच्चो को समय नहीं दे पते। 
           ग्रामीण शिक्षा के अंतर्गत सरकारी स्कूलों में सभी प्रकार की सुविधाए उपलब्ध हैं फिर भी ग्रामीण लोग उन शिक्षकों का समर्थन नहीं करते जिससे जिससे उनका मनोबल भी गिरता हैं। 


      इस प्रकार की शिक्षा निति से आज शिक्षक वर्ग भी आहत हैं जिस प्रकार शिक्षकों पर शिक्षा के अतिरिक्त और अन्य कार्य भी कराय जाते हैं और फिर बिभाग अच्छे रिजल्ट की उम्मीद करता हैं। 


         ग्रामीण स्कूल से अभिप्राय हैं।  अधिनियम के अंतर्गत सरकार ने शिक्षा का अधिकार अधिनियम बनाए हैं।  इसमें प्रत्येक बसाहट ,ग्राम ,टोला ,मजरा, से 1 किलो मीटर की परिधि में कक्षा 1 से 5 तक स्कूल खोलने की व्यवस्था हैं शर्त इतनी हैं की उस स्थान पर 40 बच्चे उपलब्ध होने चाहिए कक्षा 6 से 8 तक स्कूल खोलने के लिए यह दुरी 3 किलो मीटर तथा बच्चो की न्यूनतम संख्या 12 रखी गई हैं   
          सरकार ग्रामीण एवं शहरी स्कूलों में  विभिन्न प्रकार की सुबिधाय उपलब्ध करा रही हैं जिससे बच्चो की उपस्तिथि में भी बृद्धि होती हैं और जिनको बच्चे पसंद भी करते हैं जैसे मध्यान्ह भोजन ,पुस्तक वितरण ,साईकिल वितरण ,गणवेश वितरण ,एवं कई प्रकार की स्कोलरशिप भी बच्चो को उपलब्ध कराई जाती हैं।


         सरकारी स्कूलों में संस्कार के साथ साथ खेल ,गतिविधि के माध्यम से खेल -खेल में शिक्षा और भयमुक्त वातावरण के साथ हर प्रकार की सरकारी सुविधा और हमेशा योग्य टीचरों का सहयोग।  

बर्तमान समय में ग्रामीण शिक्षा-

             भारत में आज बड़े -बड़े बुद्धिजीवी हैं जो की ग्रामीण क्षेत्र की शिक्षा को लेकर अपने-अपने विचार रखते रहते हैं लेकिन उनको ग्रामीण स्तर की जानकारी होती नहीं हैं और ग्रामीण शिक्षा के क्षेत्र में अपने मत देते हैं। 
    
          लेकिन बर्तमान समय में ग्रामीण शिक्षा बहुत आगे निकल चुकी हैं लोगो की सोच गलत हैं की ग्रामीण क्षेत्रो में पढ़ाई का स्तर ठीक नहीं हैं लेकिन इसको आप ग्रामीण क्षेत्रो में पहुंच कर देख सकते हैं की ग्रामीण क्षेत्रो में शिक्षा का वहुत प्रसार हुआ हैं। 

    सरकार द्वारा चुनिंदा और योग्य टीचर आज भारत के हर गांव में जाकर शिक्षा की ज्योत जला रहे हैं और ग्रमीण बच्चो को शिक्षा प्रदान कर रहे हैं। ग्रामीण शिक्षा के माध्यम से शिक्षक अपनी स्थानीय भाषा में बच्चो को शिक्षा प्रदान करते हैं और उनको आने बाली कठिनाइयों को दूर करते हैं जिससे बच्चे आसानी से समझ कर अपनी दक्षताओ की पूर्ति करते हैं। 


शिक्षा की गुणवत्ता संबंधी मुद्दे गरीवी से कही अधिक शक्तिशाली हैं।लेकिन छात्रों को उत्साहित करने के लिए शिक्षक कई प्रकार की गतिविधि करवाते हैं जिससे छात्र उत्साहित होकर अपनी दक्षताओं की पूर्ति करते हैं। लोगो का मन्ना हैं की छात्रों को बिना पढ़ाए एक कक्षा से दूसरी कक्षा में उन्नत किया जाता हैं लेकिन वह उनके विवेक पर निर्भर करता हैं कुछ बच्चे इसमें पूर्ण हो जाते हैं कुछ बच्चे ही रहते हैं जो कमजोर होते हैं। 


   प्राथमिक स्तर पर बच्चो को पढ़ाना कोई छोटी बात नहीं होती यह वह छोटे बच्चे होते हैं जो घर से निकल कर सीधे शिक्षक के पास आते हैं और वह कोरा कागज होते हैं। उन्हें घर के अलावा कुछ भी पता नहीं होता वह बहार के परिवेश के वारे में नहीं जानते की घर के बाहर भी दुनिया हैं ऐसे ग्रामीण पालको के बच्चो को ये शिक्षक पढ़ाते हैं। और उन बच्चो में शिक्षा की गुणवत्ता को भी बढ़ाते हैं। 

ग्रामीण शिक्षा में खेल-
      "ग्रामीण शिक्षा में खेल" का एक अलग महत्व हैं शिक्षा के क्षेत्र में ग्रामीण स्तर पर प्राइमरी स्कूलों में 1 कालखण्ड खेल बिषय का भी रखा गया हैं, जिससे "बच्चो को खेल में रूचि पैदा हो" और उनका मन खेल -खेल में शिक्षा के साथ अपने शरीर का व्यायाम भी हो, और "एक स्वस्थ शरीर में सवस्थ मस्तिष्क का विकास होता हैं।" 

         ग्रामीण क्षेत्रो से खेलो के माध्यम से कई प्रकार की प्रतिभाय निकल कर आती हैं, हम जिस बच्चे के बारे में नहीं सोच सकते बह बच्चा न जाने किस खेल में इतिहास वना दे, इसलिए सभी बच्चो को खेलने का अवशर  दिया जाना चाहिए।  

        खेलो के माध्यम से बच्चे में विभिन्न प्रकार की क्रियाएं को जन्म दिया जा सकता हैं, बच्चा समहू में गठन,निर्देशन,आज्ञा पालन, भाईचारा, सहने की छमता आदि गुणों का "विकास" किया जा सकता हैं। 

        ग्रामीण क्षेत्र में शिक्षा में खेल अनिवार्य कर दिया गया हैं जिसके माध्यम से हर शिक्षक ग्रामीण स्तर पर खेल के माध्यम से शिक्षा का कार्यक्रम चला रहा हैं और शिक्षा और खेल दोनों मिलकर एक सम्पूर्ण शिक्षा का निर्माण करते हैं बच्चो में रूचि उत्पन्न होती हैं शिक्षक विभिन्न प्रकार के ग्रामीण और स्थानीय खेल खिला कर बच्चो में खेल भावना का विकाश करते हैं। 
rural game sport

 समस्याएं -
        भारत में ग्रामीण शिक्षा का स्तर कमजोर होने का मुख्य कारण हैं ग्रामीण क्षेत्रो में निवास करने बाले अधिकांश लोग गरीवी रेखा के नीचे जीवन  यापन करते हैं इन लोगो को अपने भोजन का प्रबंध करने के लिए मजदूरी करना पड़ती हैं । भारत में ग्रामीण शिक्षा के अंतर्गत मजदूर वर्ग के लोगो को मोटिबेट करने की  जरूरत हैं। 
  ग्रामीण क्षेत्रो में मजदूर वर्ग ज्यादा होता हैं क्योकि शिक्षा की कमी के कारण इन लोगो ने शिक्षा का अर्थ नहीं समझा और ये अपने बच्चो को भी पढ़ाने  में रूचि नहीं दिखाते। 
 ग्रामीण शिक्षा के अंतर्गत भारत सरकार कई प्रकार की सुविधाय चला रही हैं लेकिन मजदूर वर्ग के लोग उन योजनाओ का लाभ नहीं ले पा रहे  हैं जिस कारण से यह मुख्य समस्या हैं की ग्रामीण क्षेत्र के बच्चे शिक्षा ले वंचित रह जाते हैं। 
ग्रामीण क्षेत्रो में मजदूरी के कारण यह लोग अपने बच्चो को सरकारी स्कूलों में  नहीं भेज पाते हैं क्योकि जब घर के लोग मजदूरी करने जाते हैं तब इनके बच्चे घर पर रह कर घर की देखभाल करते हैं और उनके छोटे भाई बहन को सम्हालते हैं जिस कारण उनकी पढ़ाई बाधित होती हैं।  

 समाधान -
         ग्रामीण शिक्षा के अंतर्गत मजदूर  वर्ग काम करता हैं जिस कारण वह अपने बच्चो को शिक्षा देने में असमर्थ हैं। लेकिन अगर इन लोगो से मिलकर इनको शिक्षा की गुणवत्ता उसके परिणाम एवं उनके बच्चो के भविष्य के बारे में चर्चा की जाए उनको इसके लाभ हानि के बारे में समझाया जाए  उनसे सतत सम्पर्क में रहकर इस काम को किया जा सकता हैं। 
    शिक्षा की अहमियत एवं सरकार की योजनाओं के बारे में इन लोगो को पूरी जानकारी दी जानी चाहिए जिससे इनमे उत्साह पैदा होगा और ये अपने बच्चो को स्कूल भेजने की सहमति प्रदान करेंगे।  आज गरीव से गरीव आदमी भी अपनी संतान को पढ़ाना चाहता हैं इस भावना का विकास करना होगा। 
    ग्रामीण क्षेत्र में शिक्षा का विस्तार करना होगा  मजदूर वर्ग के लोगो का सहयोग लेकर इस उद्देश्य की पूर्ति की जा सकती हैं और उनके बच्चो को शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अंतर्गत शिक्षा प्रदान करना ही इस समुदाय की प्राथमिकता हैं।  
विकास-
           ग्रामीण शिक्षा के अंतर्गत सरकार बिभिन्न प्रकार की योजनाए चला रही हैं इन योजनाओ का लाभ देश के सभी छात्रों  को मिलान चाहिए।
       शिक्षा विभाग को लेकर आज बड़े -बड़े  अनुसन्धान किये जाते हैं जिससे छात्रों को बहुत फायदा होता हैं कई प्रकार की योजनाए सरकार चला रही हैं 
       जैसे - मध्यान्ह भोजन ,यूनिफार्म ,स्कॉलरशिप ,किताबे , साइकिय , 
और मेरिट लिस्ट में आने बाले छात्रों के लिए 85 / के ऊपर लेन पर लेपटॉप , इसेक बाद 40 प्रकार की स्कॉलरशिप  जो की प्राथमिक स्तर से सुरु होकर ग्रेजुएट होने तक सरकार इसका लाभ छात्रों को देती हैं। 
सरकरी स्कूलों में सुबिधाये भी हर एक सरकारी  मिडिल /हाई  स्कूल में कम्प्यूटर से लेकर हर प्रकार की सुबिधाए  उपलब्ध हैं। 

Thursday, October 24, 2019

Upgrade The Rural Education System In India


Upgrade The Rural Education System In India


         To improve the level of quality of education in rural schools, both central and state governments are devising new comprehensive approaches and strategies. Talking about some specific areas, work is being done on issues related to teachers, procedures adopted in the classroom, assessment, and assessment of knowledge in students, school infrastructure, school effectiveness, and social participation.
Rural Education System



         The development of a country depends on its education system because literacy is an indicator for the measurement of economic development. India is a developing nation so its education system is higher than many other nations and therefore it is high time that we realize the importance of education and its role to make the youth of the nation. The word education is derived from the Latin word, which means to bring up or nurture.
Rural Education System



       Education bridges the gap between rural and urban areas: urban areas have all facilities and technology development. There is a big difference between rural and urban areas in all the conditions and it is necessary to make the difference so that people in rural areas get better facilities, which leads to a better lifestyle. Apart from this, it will help improve the socio-economic development of the country.
Rural Education System


     Once parents realize that a child knows elementary mathematics, Hindi and if lucky is English, they do not see the need to further educate their children. Sadly, inadequate levels of reading material, lack of motivation are also factors that prevent these children from getting the guarantees guaranteed by the Constitution as compulsory education.


Tuesday, October 22, 2019

Yoga Activity In School Education - Benefits Of Students-development

Benefits Yoga In School Students 
Types of yoga-

  • What is yoga?
  • Benefits of yoga
  • Rules of yoga
  • Karma Yoga
  • Knowledge yoga
  • Bhakti Yoga 

         All the parents want their child to be healthy and fit, but it is not easy in today's stress and competition life. In such a situation, they need a healthy start. So why not take a healthy step in this direction today and give children a wonderful lifestyle as well as a healthy gift for their all-round development.
Yoga Activity


Benefits Yoga In Students-
       It would be surprising to know that the yoga postures you struggle to do on your yoga mats are easily done by young children. Whether a child or a child studying in the second grade, he does yoga all the time. As he grows older, he stops doing yoga. They need to learn yoga again. Schools all over the world are now accepting that yoga is an important role in children's physical and mental development and they are encouraging children to take an interest in this ancient practice.
     It is said that the mother can never see her child ill. She always wants her child to be healthy and fit. He became sharp not only physically but also with his mind. Yoga is one such way, every small posture also affects the child's body. Doing yoga anytime, even four days a week is enough to keep her body healthy

Yoga is the whole science for the body-
       Yoga makes our body strong physically, mentally, emotionally, spiritually and spiritually. That is why yoga is preferred over common exercise. The postures and asanas created during yoga become a part of the overall development of children. Yoga is beneficial from the brain to foot and from breathing to eyesight.

Yoga helps in understanding our body-
       During yoga, children do all the mudras and asanas. This allows children to understand the capabilities of different parts of the body. Yoga postures make children's body strong and flexible and generate strength in the body. Physiotherapists who are physically weak from birth are advised to adopt yoga therapy, which strengthens their body.

Yogasan is effective in breathing-
       There are more than ten types of pranayama in yoga, doing pranayama strengthens children's respiratory system and cardiovascular system. Pranayama also helps in getting rid of stress, asthma, and stutter related disorders in children. But while doing pranayama, make sure that the child is over 8 years of age.

Help in concentration and meditation in yoga-
       Doing yoga to children helps a lot in concentration and meditation. For children who are surrounded by school and tuition from morning to evening, Yogasanas like Padmasana, Sarvangasana, and Chakrasana can be very helpful. These Yogasanas bring proper stability within the children by making them more concentrated. Its implements help in the proper circulation of blood to the body and mind.
Yoga Activity



Children will become sharp-minded with yoga-
       Surya Namaskar has a special place in Yoga. This Surya Namaskar, composed of a total of 12 asanas, is a complete genre in itself. By adopting Surya Namaskar, the right synergy between the body, mind and other parts of the children can be established, which makes the mind sharp and the body agile.

  List of some beneficial yoga rugs for school going children:

Surya Namaskar Yoga Asan
Pranam Yoga Asan
Hastapad Yoga Asan
Ashtanga Namaskar Yoga Asan
Bhujang Yoga Asan
Dhanura Yoga Asan
Vajrasana Yoga 

Virabhadra Yoga Asan
Shishu Yoga Asan

Who to do Yoga-        
          Friends, yoga has become very important in life. Yoga can relieve stress from life. So today I will teach you how to do yoga. Not only do we get rid of stress, but it is also very good for the body. First of all, you have to make a peaceful place where you can do yoga regularly.
          If you want to be healthy both physically and mentally, then you can keep yourself healthy by taking a little time out of your busy time. Do yoga daily during this time. It is said that a little exercise or jogging in the morning can be very beneficial for your health.
        There are many benefits to doing yoga. By doing regular yoga, you strengthen your heart and memory. The best thing is that yoga brings positive energy to your brain. So these 3 yoga asanas should be done every morning. So that you do not have any problem in the body. Know about these yoga asanas.
        
Bhujangasana Yoga-
       Before performing yoga asana, lie flat on your stomach and keep both hands under the forehead. Keep the toes of both feet together. Now raise the forehead in front and keep both arms parallel to the shoulders so that the weight of the body falls on the arms. Now lift the front of the body with the help of arms. Stretch the body and take a long breath. After staying in this position for a few seconds, lie back on your stomach.

Rural Education of yoga-
       By doing yoga, there is mental development with the body of the children, which increases the possibility of working in the body and getting good thoughts in the brain. Yoga acts as energy for our body. Yoga also cures many types of diseases. And the body is healthy.
        There is no time for yoga in the life of present-day Bhagador, but you should definitely take some time out of your daily routine and do yoga, you can see by searching on the net how many benefits there are.
       Yoga has been included in rural education, rural education and sports are all important parts of education, they have been included in the main subject.
        






Rural education In India

Rural Education And rural development

Rural Education And Rural development Rural development-  Creating a new India by empowering villages is the main objective of ...

google